Skip to content

Nigah statement condemning the shutting down of Sunil Gupta’s exhibition ‘Sun City & Other Stories’

April 1, 2012

This statement has been put out by NIGAH

On Friday, March 23 2012, Sunil Gupta’s photographic exhibition ‘Sun City & Other Stories’ opened at the Alliance Francaise in Delhi. That evening itself, plainclothes men of the Delhi Police from the Tughlaq Road Police Station arrived at the show and ordered the removal of numerous photographs. In the chaos that followed, the photographs were removed by the Alliance Francaise under the ‘supervision’ of the Delhi Police and the exhibition was closed for the evening. The next day, the Alliance Francaise informed Sunil -via a third party – that the entire show would be shut down.

Why did this happen? On that day itself the Delhi Police said that someone had called the emergency police hotline, and complained to the Delhi Police about this exhibition which, according to the complainant, was ‘against Hindu culture’. Another version of events, also produced by the Delhi Police, claims that they received a complaint at the Tughlaq Road Police Station from someone who had made a video of the exhibition, complaining about the nudity in the photographs.

We at Nigah strongly condemn this shameful moral policing. In the recent past, there has been an alarming rise in incidents of moral policing with relation to the arts, especially in relation to queer art, and art that resists dominant visual cultural norms. In January this year, another queer artist, Balbir Krishan, was physically attacked, while his show of paintings at Rabindra Bhavan in Delhi was brutally vandalized.

Moral policing of queer lives is nothing new: charges of ‘obscenity’ have been leveled against us on things ranging from Pride marches to plays, movies and writings that allude to queerness. Homophobia hides behind these meaningless and arbitrary charges, and as queer people we are expected to be shamed into silence. At Nigah, we believe that the focus of this shaming needs to be reversed. Queer lives and desires are not shameful. Moral policing is.

Condemning all forms of moral policing, whether by individuals or by the state, we stand by the right of Sunil Gupta and other queer artists to create and display their art publicly. We further condemn institutional and state responses to this policing, which routinely fall on the side of harassing artists and their communities, instead of protecting our constitutional rights to freedom of speech, expression, assembly, association and livelihood.

At Nigah, we call for the government to condemn such policing, institutions to stand up to it, and individuals to speak out against it. And it’s in this spirit that we demand that the Delhi Police must clarify its actions by being transparent about the nature of the complaint received by them, which prompted them to forcibly shut down the exhibition on the opening night itself. Additionally, we demand that the Alliance Francaise, regarded as a liberal, queer-friendly and safe space, explain to us why they did not stand by Sunil Gupta, and why they failed in defending his right to display his work.

Lastly, we demand that the Alliance Francaise reopen the Sun City exhibition and that the Delhi Police provide security at the venue to ensure that Sunil Gupta’s right to create and display his work is not thwarted by self-proclaimed upholders of morals.

Nigah
New Delhi, 30 March 2012
Nigah is a queer collective based in Delhi.
More about us on our blog: http://nigahdelhi.blogspot.in/
सुनील गुप्ता की प्रदर्शनी ‘सन सिटी एंड अदर स्टोरीस ‘ को बंद करने के विरोध में निगाह का वक्तव्य

सुनील गुप्ता की ‘सन सिटी एंड अदर स्टोरीस ‘ नामक चित्र-प्रदर्शनी जिसका उदघाटन शुक्रवार 23 मार्च 2012 को आलिआंस फ्रांसिस में हुआ था. उसी शाम दिल्ली पुलिस के तुगलक रोड थाने से साधारण कपडे पहने कुछ व्यक्ति वहाँ पहुंचे और वहाँ लगे बहुत- से चित्रों को हटाने का आदेश दिया. इसके बाद हुई हलचल में दिल्ली पुलिस के निरिक्षण में आलिआंस फ्रांसिस द्वारा चित्रों को वहाँ से हटा लिया गया और बाद में पूरी प्रदर्शनी को ही उस शाम के लिए बंद कर दिया गया. अगले दिन आलिआंस फ्रांसिस ने किसी तीसरे पक्ष के माध्यम से सुनील को सूचित किया कि समूची प्रदर्शनी को ही बंद करना पड़ेगा.
ऐसा क्यों हुआ? उस दिन पुलिस ने कहा कि किसी व्यक्ति ने दिल्ली पुलिस के आपातकाल हौट्लाइन नंबर पर फोन करके इस प्रदर्शनी की शिकायत की. शिकायतकर्ता के अनुसार प्रदर्शित चित्र ‘ हिंदू संस्कृति के विरुद्ध’ थे. दिल्ली पुलिस द्वारा प्रस्तुत एक दूसरी कहानी के अनुसार उन्हें तुगलक रोड थाने में एक शिकायत मिली जिसमें चित्रों में नग्नता का ज़िक्र था. उन्होंने यह भी कहा कि शिकायतकर्ता ने प्रदर्शनी के विडियो भी बनाया था.
निगाह इस प्रकार की शर्मनाक मॉरल पुलिसिंग की कड़े शब्दों में भर्त्सना करती है. हाल के दिनों में कला के क्षेत्र में, विशेषकर क्वीयर कला, जो मुख्यधारा की कला की सर्वव्यापी और हावी रहने वाली मान्यताओं को चुनौती देती है, के सन्दर्भ में मॉरल पुलिसिंग की घटनाओं में चिंताजनक रूप से तेज़ी से वृद्धि हुई है. इसी साल जनवरी में एक अन्य क्वीयर कलाकार बलबीर कृष्ण पर हमला हुआ और दिल्ली के रबिन्द्रनाथ भवन में उनकी चित्र प्रदर्शनी में तोड़फोड़ भी की गई.

क्वीयर लोगों से जुड़ी चीज़ों पर मॉरल पुलिसिंग कोई नई बात नहीं है. हम पर अश्लीलता के आरोप लगते रहे हैं. प्राइड,नाटक,फिल्में और लेखन और वो सब जो क्वीयर मुद्दों की बात करता है अश्लील माना गया है. हम मानते हैं कि इस प्रकार के निराधार और बेतुके आरोपों का कारण छुपा हुआ होमोफोबिया होता है. यही नहीं हमसे उम्मीद की जाती है कि हम अपने आप पर शर्मिंदा हो और चुप रहें. निगाह का यह मानना है कि क्वीयर लोगों की जिंदगी शर्मनाक नहीं है यदि कुछ शर्मनाक है, तो वो है मॉरल पुलिसिंग.

सभी प्रकार के नैतिक नियंत्रण, चाहे वह किसी व्यक्ति द्वारा हो या सरकार, का विरोध करते हुए, हम सुनील गुप्ता और ऐसे सभी क्वीयर कलाकारों के साथ हैं जो अपनी कला को लोगों के सामने प्रदर्शित करना चाहते हैं. इसके साथ-साथ हम संस्थाओं और सरकार का इस प्रकार के मॉरल पुलिसिंग के मामलों में जो रुख रहा है, उसकी भी आलोचना करते हैं.संस्थाएं और सरकार हमारे संवैधानिक मूल्यों और अधिकारों जैसे कि अभिव्यक्ति ,सभा करने , आजीविका और और एक साथ आने के अधिकारों की रक्षा करने के बजाय नियमित रूप से कलाकारों और उनके समुदाय को पीड़ित करती रहती हैं.

हम मांग करते हैं कि सरकार इस प्रकार की मॉरल पुलिसिंग की निंदा करे, संस्थाएं सामने आयें और आम जनता इसके खिलाफ अपनी आवाज़ बुलंद करे. और इसी मंशा से हम दिल्ली पुलिस से भी ये मांग करते हैं कि वे स्पष्ट करे कि उन्हें किस प्रकार की शिकायत मिली जिसके आधार पर उन्होंने जबरन प्रदर्शनी को पहले ही दिन बंद करवा दिया. साथ ही साथ हम चाहते हैं कि आलिआंस फ्रांसिस जिसे एक उदार और क्वीयर समर्थक संस्था माना जाता है, यह स्पष्टीकरण दे कि क्यों वह इस स्थिति में सुनील गुप्ता के साथ खड़ी नहीं रह सकी और क्यों सुनील के कला को प्रदशित करने के अधिकार की रक्षा नहीं कर सकी.

अंत में, हम मांग करते हैं की आलिआंस फ्रांसिस सन सिटी प्रदर्शनी को दुबारा से शुरू करें और दिल्ली पुलिस वहाँ सुरक्षा प्रदान करे ताकि सुनील का कला प्रदर्शित करने के अधिकार को नैतिकता के स्वघोषित ठेकेदारों से कोई खतरा न हो.

निगाह, नई दिल्ली
30 मार्च 2012

2 Comments leave one →
  1. Sunalini Kumar permalink*
    April 2, 2012 8:15 AM

    It’s a bloody fragile religion that gets offended at photographic records of pleasure between consenting adults. Why don’t these self-appointed Hindus call the police when their gurus sexually abuse children? Hypocrites and cowards, hiding behind their supposed moral outrage. And the police? They are apparently paid mercenaries, happy to oblige as long as some minority is targeted. They walk around with their ridiculous bluster, feeling important after threatening unarmed artists. What ever happened to the old system of ‘don’t like a book/exhibition/play/movie, don’t watch it’? 99.9 % of the population seems to be happy to practise this philosophy, but that is apparently not enough for hamaare samaaj ke thekedaar. S.H.A.M.E.

  2. Harbir Singh permalink
    April 2, 2012 7:15 PM

    Can’t someone put the exhibition on the YOUTUBE?
    Would that not be another outlet for the protest;
    and we can put the URL of the same on Kafila.

We look forward to your comments. Comments are subject to moderation as per our comments policy. They may take some time to appear.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 56,618 other followers

%d bloggers like this: