Skip to content

Haryana Police and Administration Repress Ongoing Maruti Workers’ Struggle: MSWU

March 30, 2013

Guest Post by Maruti Suzuki Workers Union, Provisional Working Committee

Third Day of our Fast Unto Death – Police and Administration Gearing up for Further Repression of Our Struggle!

Friends,

Today is the third day of our fast unto death that began on 28th March. However it seems that the state is adamant on responding to our peaceful movement with increased violence and use of brute force. Today, when the local people of nearby villages and our family members came to lend their support to us at the site of the hunger strike, they were greeted by an increased number of policemen. When we tried to meet Haryana Industrial Minister Randeep Surjewala – we have been sitting outside whose residence for the last 6 days braving rains and the cold – he flatly refused to meet us. When the family members surrounded him demanding our rights then a large number of police men appeared at the site and the minister left the place using the police to disperse the people. Now there are 2 police vans stationed here and the small shopkeepers and tea stall owners in the area are being threatened by the administration to withdraw their support from our movement. When the administration realized that we are not going to abandon our struggle because of their threats then they put pressure on the owner of the plot where we are sitting and tried to use him force to us out.

The sharp rise in the number of police personnel deployed here suggests that the administration is preparing to break our peaceful demonstration and hunger strike using brute force. All that we want to ask is why does the administration fear unarmed workers, sitting hungry for three day so much as to require so many police personnel to protect it? All that we are demanding is an impartial inquiry into the incident of 18th July, the brunt of which we have borne by losing our jobs and the freedom of 147 of our friends. By responding to our peaceful movement with threats and force the administration has yet again made clear that they are ready to use all their strength to compromise the most basic rights of workers in favour of the interests of the company owners.

Yet, our untiring struggle continues. The support that we are receiving from the local people of Kaithal and Jind, our family members and all of you has given further strength and sharpness to our movement. We hope that we will find you standing by our side against the repression that seems imminent in the near future. Our struggle no more remains the struggle of some workers in a factory but has become the struggle of all workers and the working people against this anti-worker state. This struggle cannot proceed without your highest participation.

Long Live the Unity of Workers!

Long Live the Revolution!

Provisional Working Committee,

MSWU, Regi. No. 1923

आमरण अनशन का तीसरा दिन – पुलिस-प्रशासन हमारे संघर्ष पर दमन ढाने को तैयार!!

साथियों,

28 मार्च से शुरू हुए हमारे आमरण अनशन का आज तीसरा दिन है| परन्तु मजदूरों के इस शांतिपूर्ण सत्याग्रह का जवाब प्रशासन बढती हिंसा से ही देने पर उतारू नज़र आ रही है| आज जब बड़ी मात्र में आस पास के गाँव वाले और हमारे परिवार वाले हमारे समर्थन में अनशन स्थल पर पहुंचे तो उनका स्वागत करने के लिए पहले से अधिक संख्या में पुलिस मौजूद थी| जब हमने हरयाणा उद्योगिक मंत्री रणदीप सुरजेवाला – जिनके निवास के बाहर हम 6 दिन से बारिश और ठण्ड का मुकाबला करते बैठे हुए हैं — को मिलना चाहा तो उन्होंने साफ़ इनकार कर दिया| परिवार वालों ने जब न्याय मांगते हुए उनहें घेर लिया तो भारी मात्रा में पुलिस यहाँ पहुँच गयी और मंत्री जी पुलिसी बल के दम पर वहाँ से निकल गए| अब यहाँ पुलिस की दो वैन तैनात कर दी गयी है और आस पास के छोटे दूकानदरों को भी सरकार द्वारा हमारे आन्दोलन का बहिष्कार करने के लिए डराया और धमकाया जा रहा है| जब उन्हें लगा की हम मात्र धमकियों से डर कर अपना संघर्ष नहीं छोड़ने वाले हैं तो उन्होंने ज़मीन के मालिक पर दबाव बना कर उनके द्वारा हमें अपने अनशन के स्थल से हटाने की कोशिश भी की|

पुलिस की संख्या में ऐसी बढ़ोतरी हमारे शांतिपूर्ण अनशन और धरने को जबरन तोड़ने की कोशिश का हिस्सा मालूम होती है| हम बस यह पूछना चाहते हैं की क्यूं प्रशासन को 3 दिन से भूखे बैठे, निहत्ते मजदूरों से इतना डर लग रहा है की उन्हों ने अपनी सुरक्षा के लिए इतने सिपाही तैनात कर दिए हैं? हम तो केवल 18 जुलाई की घटना की निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे हैं, जिसका दंश हमने अपनी नौकरियां और अपने 147 साथियों की आज़ादी खो कर झेली है| हमारे शांतिपूर्ण सत्याग्रह का जवाब इस तरह की धमकियों और हिंसा से दे कर सरकार ने एक बार फिर साफ़ कर दिया है की वह अपने पूरे सामर्थ्य से मालिकों के पक्ष में मजदूरों व उनके परिवारवालों के सारे हकों की उपेक्षा करने के लिए तैयार है|

परन्तु हमारा अथक संघर्ष जारी है| साथ ही कैथल और जींद के आम निवासियों, हमारे परिवारवालों और आपके शानदार समर्थन से हमारा संघर्ष और भी सशक्त और तेज़ हुआ है| हम आपसे उम्मीद करते हैं की आने वाले समय में संभवनीय दिख रहे दमन के खिलाफ आप हमारे साथ आ कर खड़े होंगे| हमारा संघर्ष अब एक फैक्ट्री के कुछ मजदूरों का संघर्ष ना रह कर इस मजदूर विरोधी सरकार के खिलाफ आम मजदूरों और महनतकाश जनता का संघर्ष बन गया है| यह संघर्ष आपकी भागीदारी के बिना आगे नहीं बढ़ सकता|

मजदूर एकता जिंदाबाद!

इन्किलाब जिंदाबा!

प्रोविजनल वर्किंग कमेटी,

मारुति सुजुकी वर्कर्स यूनियन, रजी.नं. 1923

http://marutisuzukiworkersunion.wordpress.com/

2 Comments leave one →
  1. April 1, 2013 9:49 AM

    Pained to read all this. Socialist revolution with workers’ democratic control is the only way out. Let us join all our struggles for that higher goal.

Trackbacks

  1. यही है वेदना कि मर गई सवेंदना – इंसान ही कर रहा इंसान की अवहेलना | Mission Sharing Knowledge

We look forward to your comments. Comments are subject to moderation as per our comments policy. They may take some time to appear.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 56,563 other followers

%d bloggers like this: